Saltar al contenido

मनचाहा वरदान पाने के लिए नवरात्रि में ऐसे करें मां दुर्गा को प्रसन्‍न

Navratri 2019

Navratri 2019नवरात्रि

मां दुर्गा को प्रसन्न करने का सबसे उचित समय है ‘नवरात्रि’। नवरात्र के नौ दिनों में माता के नौ रूपों की पूजा की जाती है। पहले दिन पूजा-पाठ की शुरुआत माता शैलपुत्री की पूजा से होती है जो नौंवे दिन सिद्धिदात्रि की पूजा और फिर हवन आदि कार्यक्रम के बाद पूजा समाप्त हो जाती है।

महत्व

हिंदू धर्म शास्त्रों में नवरात्र का बहुत महत्व बताया गया है। इन नौ दिनों में यदि साधक ने सच्चे मन से माता की पूजा की और अपने दुखों को दूर करने की माता से विनती की तो माता अपने भक्त की मनोकामना जरूर पूरी करती है। मां दुर्गा का आशीर्वाद पाकर भक्तगण जीवन में अनेक प्रकार की सफलता अर्जित करते हैं।

Puja en línea

नियमों का पालन

आइए जानते हैं कि नवरात्रि के दौरान पूजा-पाठ करते समय एक साधक को किन नियमों का पालन करना चाहिएः-

– पूजा के कमरे को साफ-सुथरा रखें।– पंडित जी की सहायता से कलश की स्थापना करें।– माता को दूध और जल से स्नान कराएं।– माता को वस्त्र पहनाएं, उनका श्रृंगार करें।– माता के बाईं ओर दीपक जलाएं।– लाल फूल, रोली, चंदन, फल ​​दूर्वा, तुलसी का पत्ता और प्रसाद अवश्य रखें।

हिंदू पंचांग 2019 पढ़ें और जानें वर्ष भर के शुभ दिन, शुभ मुहूर्त, विवाह मुहूर्त, ग्रह प्रवेश मुहूर्त और भी बहुत कुछ।

नियमों का पालन

– यंत्र या सिद्धि करने वाली सामग्री स्थापित करें।– कलश के ठीक सामने मिट्टी और रेत मिलाकर ज्वार बोएं।– दुर्गा सप्तशती नामक किताब में दिए मंत्र से माता का आवाह्न करें।– दुर्गा सप्तशती किताब से कवच, अर्गला, कीलक आदि का पाठ करें ।– जप अवश्य करें। जप के समय मुंह पूर्व दिशा में हो।– पूजा के उपरांत क्षमा प्रार्थना करके ही उठें।

Horóscopo diario

मनचाहा वरदान

माता की साधना से मनुष्य को जहां जीवन में भक्ति, शक्ति मिलती है वहीं मनचाहा वरदान भी प्राप्त होता है। यदि कोई साधक निश्छल मन से माता की शरण में जाता है और नियम से माता की पूजा करता है तो मां उसके सभी दुख हर लेती हैं। जिन लोगों की कुंडली में शनि व राहु के कारण समस्याएं हो रही हैं, वे माता के आशीर्वाद से इस पीड़ा से मुक्ति पा सकते हैं।

किसी भी जानकारी के लिए Llame al करें: 8882540540

ज्‍योतिष से संबधित अधिक जानकारी और दैनिक राशिफल पढने के लिए आप हमारे फेसबुक पेज को Me gusta और Seguir करें: Astrólogo en Facebook