Saltar al contenido

भ्‍ाारत के महान ज्‍योतिष बी.वी रमन की कुंडली

भ्‍ाारत के महान ज्‍योतिष बी.वी रमन की कुंडली

आज हम बात करेंगें भारतीय ज्‍योतिष को नाम और पहचान दिलाने वाले 19 वीं सदी के महान प्रोफेसर बी.वी रमन की। बी.वी रमन का जन्‍म कर्नाटक में 8 अगस्‍त, 1912 को हुआ था। उनके दादाजी अपने समय के प्रसिद्ध ज्‍योतिषी हुआ करते थे और उनसे कई ब्रिटिश अधिकारी और राजा ज्‍योतिषीय सलाह के लिए आते थे। वह बी.वी रमन के शिक्षक भी थे और उन्‍हीं के नेतृत्‍व में रमन जी ने अपने बचपन में ही श्‍लोक याद करना सीखा था। एक ज्‍योतिषी होने के नाते मैं हमेशा रमन जी की किताब «Mis experiencias con la astrología”की सिफारिश करता हूं क्‍योंकि इस किताब में उस समय के भारत को बखूबी चरितार्थ किया गया है।

Horóscopo diario

बी.वी रमन जी की जन्म कुंडली देखें तो उन‍की कुंडली के 4 अक्ष पर बनने वाला गजकेसरी योग इस कुंडली की विशेषता है। लग्‍न पर न केवल शनि के लग्‍न भाव के स्‍वामी की दृष्टि पड़ रही है बल्कि नवम भाव के स्‍वामी शुक्र और पंचम भाव के स्‍वामी बुध की भी लग्‍न भाव पर दृष्टि है। कुंडली में शनि, चंद्रमा की युति के कारण उच्‍च के चंद्रमा को आंशिक रूप से कुछ हानि हो रही है और पुनर्फु हो रहा है किंतु गुरु की प्रबल दृष्टि के कारण वह दुष्‍प्रभाव भी दूर हो रहा है।

हिंदू पंचांग 2019 पढ़ें और जानें वर्ष भर के शुभ दिन, शुभ मुहूर्त, विवाह मुहूर्त, ग्रह प्रवेश मुहूर्त और भी बहुत कुछ।

रमन जी के दादाजी बी सुब्रह्मण्यम राव ने एक बार भविष्‍यवाणी की थी कि बी.वी रमन जी एक दिन अपना खुद का नाम और पहचान बनाएंगें और जैसे कि हम सभी जानते ही हैं कि आज वह भारतीय ज्‍येातिष को पहचान और एक नया सफल में में हुए हैं।

Piedras preciosas semipreciosas

उनकी पुण्‍यात्‍मा को मेरी ओर से श्रद्धांजलि।

Por Acharya Raman

अपनी निशुल्‍क कुंडली निकालने के लिए यहां क्‍लिक करें

किसी भी जानकारी के लिए Llamada करें: 8882540540

ज्‍योतिष से संबधित अधिक जानकारी और दैनिक राशिफल पढने के लिए आप हमारे फेसबुक पेज को Me gusta और Seguir करें: Astrólogo en Facebook