Saltar al contenido

पुण्‍य कमाने के लिए सबसे खास है कार्तिक पूर्णिमा, जानें पूजन विधि

पुण्‍य कमाने के लिए सबसे खास है कार्तिक पूर्णिमा, जानें पूजन विधि

हिंदू धर्म के अनुसार हर साल 12 पूर्णिमा आती हैं और हर माह में एक पूर्णिमा होती है। इसमें कार्तिक मास की पूर्णिमा सबसे खास मानी जाती है। कार्तिक पूर्णिमा को त्रिपुरी पूर्णिमा या गंगा स्‍नान की पूर्णिमा के नाम से भी जाना जाता है।

इस बार कार्तिक पूर्णिमा पर गंगा स्‍नान 4 नवंबर को होगा। हिंदू धर्म में कार्तिक पूर्णिमा को बहुत खास माना जाता है। मान्‍यता है कि कि इस दिन भगवान विष्‍णु ने अपना पहला अवतार लिया था। इस शुभ दिन पर भगवान विष्‍णु मतस्‍य यानि मछली के अवतार में जन्‍मे थे।

कार्तिक पूर्णिमा के दिन चंद्रमा 180 डिग्री के अंश पर होता है और कहा जाता है कि इस दिन चंद्रमा की किरणें बहुत शुभ और सकारात्‍मक होती हैं जो सीधे दिमाग पर असर करती हैं। पृथ्‍वी के सबसे नज़दीक होने के कारण चंद्रमा सबसे अधिक प्रभाव पृथ्‍वी पर ही पड़ता है।

Generar Janam Kundali gratis

कार्तिक पूर्णिमा पर करें ये काम

पौराणिक मान्‍यता के अनुसार इस दिन स्‍नान और दान करना श्रेष्‍ठ माना जाता है। इस दिन गंगा नदी में स्‍नान करना या जल में गंगा जल मिलाकर स्‍नान करना चाहिए। सुबह भगवान विष्‍णु की पूजा से भी विशेष फल मिलता है।

गंगा स्‍नान का महत्‍व

इस दिन हाथ में कशा लेकर गंगा में स्‍नान करने से पुण्‍य की प्राप्‍ति होती है। अगर स्‍नान में कुश और दान करते समय हाथ में जल व जप करते समय संख्‍या का संकल्‍प नहीं किया जाए तो कर्म फलों से संपूर्ण पुण्‍य की प्राप्‍ति नहीं होती है। हमेशा हाथ में जल लेकर ही दान करना चाहिए।

क्‍यों कहा त्रिपुरी पूर्णिमा

इस दिन को त्रिपुरी पूर्णिमा इसलिए कहा गया है क्‍योंकि इस दिन भगवान शंकर ने असुर त्रिपुरासुर का वध किया था। इस घटना के बाद भगवान शिव को त्रिपुरारी के रूप में पूजा जाता है।

कार्तिक पूर्णिमा की पूजन विधि

गंगा स्‍नान के दिन प्रात: काल स्‍नान करने के बाद भगवान विष्‍णु की आराधना करें और अगर संभव हो तो गंगा स्‍नान के लिए भी जाएं। पूरा दिन या एक समय के लिए व्रत रखें। इस खास दिन पर नमक का सेवन नहीं करना चाहिए और ब्राह्मणों को दान देना चाहिए। शाम के समय चंद्रमा को अर्घ्‍य देकर व्रत खोलें।

Use Rudraksha Energizada para vivir saludable y rico

मिलता है ऐसा फल

माना जाता है कि कार्तिक पूर्णिमा के दिन कृतिका नक्षत्र में भगवान शिव के दर्शन से ही मनुष्‍य सात जन्‍मों तक धनी और ज्ञानी बनता है। इस दिन जब चंद्रमा आकाश में उदित हो रहा हो ठीक उस समय शिवा, संभूति, संतति, प्रीति, अनुसूया और क्षमा कृतिकाओं का पूजन करने से भगवान शिव प्रसन्‍न होते हैं।

किसी भी जानकारी के लिए Llamada करें: 8882540540

ज्‍योतिष से संबधित अधिक जानकारी और दैनिक राशिफल पढने के लिए आप हमारे फेसबुक पेज को Me gusta और Seguir करें: Página de Facebook de AstroVidhi