Saltar al contenido

दीपावली 2018 शुभ मूहर्त और पूजन विधि – दीपावली पर जरूर करें ये उपाय

दीपावली 2018 शुभ मूहर्त और पूजन विधि - दीपावली पर जरूर करें ये उपाय

हिंदू धर्म के सबसे खास त्‍योहारों में से एक है दीपावली का पर्व। हर साल दीपावली का पर्व बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है। कार्तिक मास की अमावस्‍या को दीपावली का पर्व मनाया जाता है। इस त्‍योहार को बहुत ही शुभ माना जाता है और लक्ष्‍मी के आगमन के लिए ये दिन सर्वोपरि माना जाता है।

दीपावली के त्‍योहार से जुड़ी पौराणिक कथा

हर साल कार्तिक मास की अमावस्‍या को दीपावली का पर्व मनाया जाता है। रामायण काल ​​में जब श्रीराम 14 साल का वनवास काटकर अयोध्‍या वापिस लौटे थे तो उनके आगमन पर हर घर में जलाए गए थे और हर्ष और उल्‍लास के साथ श्रीराम का स्‍वागत किया गया था। श्रीराम के आगमन पर पूरा अयोध्‍या शहर रोशनी से जगमगा रहा था और तभी से कार्तिक मास की अमावस्‍या को दीपावली का पर्व मनाए जाने की शुरुआत हुई। समय के साथ और भी बहुत सारी बातें और मान्‍यताएं इससे जुड़ती चली गईं।

Horóscopo 2019

दीपावली पूजन 2018 शुभ मुहूर्त

दीपावली के अवसर पर मां लक्ष्‍मी की पूजा का बहुत महत्‍व है और इस दिन अगर शुभ मुहूर्त में पूजा की जाए तो मां लक्ष्‍मी सदा के लिए आपके पास वास कर सकती हैं। अमावस्‍या तिथि को अर्ध रात्रि में महालक्ष्‍मी का पूजन करना श्रेष्‍ठ माना जाता है। अगर अमावस्‍या की अर्ध रात्रि को पूजा नहीं कर सकते हैं तो प्रदोष व्‍यापिनी तिथि को पूजा करें। मां लक्ष्‍मी पूजन और दीप दानादि के लिए प्रदोष काल का समय शुभ माना गया है।

प्रदोष काल

दिल्‍ली तथा आसपास के इलाकों में 17.30 से 20.11 तक प्रदोष काल रहेगा। इसे ही प्रदोष काल का समय कहा जाता है। इस काल में दीपावली के पूजन के लिए शुभ मुहूर्त होता है। प्रदोष काल में भी स्थिर लग्‍न समय सबसे उत्तम रहता है और इस दिन 17,59 से 19,53 तक वृष लग्‍न रहेगा। प्रदोष काल व स्थिर लग्‍न दोनों रहने से मुहूर्त शुभ रहेगा।

Calculadora de Rudraksha gratis

दीपावली पूजन 2018

लक्ष्‍मी पूजन का मुहूर्त: 17,57 से 19,53 तक

अवधि: 1 घंटा 55 मिनट

प्रदोष काल का समय: 17.27 से 20.06 तक

वृषभ काल का समय: 17,57 से 19,53 तक

अमावस्‍या तिथि का आरंभ: 22,27 बजे

अमावस्‍या तिथि का समापन: 7 नवंबर को 21,31 बजे तक

दीपावली की पूजन सामग्री

महालक्ष्मी पूजन में केसर, रोली, चावल, पान, सुपारी, फल, फूल, दूध, खील, बताशे, सिंदूर, सूखे मेवे, मिठाई, दही, गंगाजल, धूप, अगरबत्ती, दीपक, रूई तथा कलावा, नारियल और तांबे का कलश चाहिए ।

दीपावली की पूजन विधि

लक्ष्मी जी के चित्र के सामने एक चौकी रखकर उस पर मौली बांधें। अब इस चौकी पर गणेश जी की व लक्ष्मी जी की मिट्टी या चांदी की प्रतिमा स्थापित कर उन्‍हें तिलक लगाएं। चौकी पर छ: चौमुखे व 26 छोटे दीपकों में तेल-बत्ती डालकर उन्‍हें जलाएं। इसके पश्‍चात् जल, मौली, चावल, फल, गुड़, अबीर, गुलाल, धूप आदि से विधिवत पूजन करें। एक छोटा तथा एक चौमुखा दीपक रखकर लक्ष्मीजी का पूजन करें। पूजन करने के बाद एक-एक दीपक घर के कोनों में जलाकर रखें।

Janm Kundali

दीपावली के दिन दीपदान कैसे करें

दीपावली के दिन दीपकों की पूजा का विशेष महत्व है। छः चौमुखे दीपक दो अलग-अलग थालों में रखें। छब्बीस छोटे दीपक भी दोनों थालों में सजायें। इन सब दीपकों को प्रज्जवलित करके जल, रोली, खील बताशे, चावल, गुड़, अबीर, गुलाल, धूप, आदि से पूजन करें और टीका लगावें। व्यापारी लोग दुकान की गद्दी पर गणेश, लक्ष्मी की प्रतिमा रखकर पूजा करें। इसके बाद घर आकर पूजन करें। एक चौमुखा, छः छोटे दीपक गणेश लक्ष्मीजी के पास रख दें।

दीपावली पर करें ये उपाय

  • दीपावली के दिन ब्रह्म मुहूर्त में मां लक्ष्‍मी के मंदिर जाएं और उनसे पूजा अर्चना करें। गुलाब का इत्र, अगरबत्ती और कमल के पुष्‍प और खीर अर्पित करें। मां लक्ष्‍मी की कृपा आपके ऊपर सालभर बनी रहेगी।
  • मां लक्ष्‍मी के पूजन में गन्‍ना, कमल के पुष्‍प, कमल गट्टे, नागकेसर, आंवला और खीर का प्रयोग करने से धन के आगमन के मार्ग प्रशस्‍त होते हैं।
  • दीपावली के शुभ दिन पर किसी सुहागिन स्‍त्री को घर पर भोजन करवाएं और वस्‍त्र भेंट करें।
  • अगर आपके पास धन नहीं टिकता है या धन कमाने में आपको अपने भाग्‍य का साथ नहीं मिल पा रहा है तो आपको चने की दाल पहले कच्‍ची मां लक्ष्‍मी को अर्पित करें और इसके बाद पीपल के पेड़ पर चढ़ा दें।
  • काम को बुरी नज़र लगती रहती है या व्‍यापार नहीं चलता है जो रात के समय अपने ऑफिस में से एक फिटकरी की डली लेकर उतारें और चौराहे पर फेंक दें। आपके कार्यों में आ रही बाधाएं दूर होंगीं।
  • मां लक्ष्‍मी के पूजन में उन्‍हें कमल गट्टे की माला अर्पित करें।
  • दीपावली के दिन गन्‍ने के रस या दूध से अभिषेक करवाने पर सालभर धन का आगमन रहता है और आर्थिक स्थिति मजबूत रहती है।

Comprar zafiro azul

  • दीपावली का पर्व दान आदि के लिए भी बहुत शुभ माना जाता है। इस दिन अपंग, गरीब, अनाथ लोगों को भोजन और वस्‍त्र आदि दान में दें।
  • किसी वट वृक्ष के नीचे का कोई भी पौधा निमंत्रण देकर लाएं। अपने घर के गमले में इसे लगाएं। इससे आपके घर में धन की वृद्धि होती है और आर्थिक संकट दूर होते हैं।

दीपावली के दिन धन-संपन्‍नता की प्राप्‍ति के लिए मां लक्ष्‍मी के पूजन का विधान है और अगर आप इस अवसर पर सच्‍चे मन से आराधना करते हैं तो आपकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण हो सकती हैं।

किसी भी जानकारी के लिए Llamada करें: 8882540540

ज्‍योतिष से संबधित अधिक जानकारी और दैनिक राशिफल पढने के लिए आप हमारे फेसबुक पेज को Me gusta और Seguir करें: Astrólogo en línea