Saltar al contenido

जन्‍माष्‍टमी के दिन इन उपायों से कर सकते हैं हर परेशानी को दूर

जन्‍माष्‍टमी के दिन इन उपायों से कर सकते हैं हर परेशानी को दूर

जन्‍माष्‍टमी का पर्व पूरे देश में बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है। भाद्रपद की कृष्‍ण पक्ष की अष्‍टमी को जन्‍माष्‍टमी का पर्व मनाया जाता है। मान्‍यता है कि इस दिन भगवान विष्‍णु ने धरती पर कृष्‍ण के रूप में जन्‍म लिया था।

14 अगस्‍त, सोमवार को जन्‍माष्‍टमी का त्‍योहार है। ज्‍योतिषशास्‍त्र में भगवान कृष्‍ण को प्रसन्‍न करने के विशेष उपाय बताए गए हैं जिन्‍हें करने से आपके ऊपर मां लक्ष्‍मी की कृपा बरसती है। ये उपाय आपकी हर मनोकामना की पूर्ति करते हैं और आपके धन आगमन के मार्ग प्रशस्‍त करते हैं। ये उपाय हैं -:

नौकरी में प्रमोशन का उपाय

नौकरी में प्रमोशन या आय के स्रोत बढ़ाना चाहते हैं तो जन्‍माष्‍टमी के दिन 7 कन्‍याओं को अपने घर बुलाकर सफेद मिठाई या खीर का प्रसाद दें। लगातार पांच शुक्रवार सात कन्‍याओं को खीर का प्रसाद बांटने से आपके धन के मार्ग प्रशस्‍त होंगें।

Horóscopo hindi 2019

राशिनुसार धारण करें अपनी अभिमंत्रित भाग्य रत्न अंगूठी

मनोकामना की पूर्ति का उपाय

जन्‍माष्‍टमी के दिन से शुरुआत करें और 27 दिन तक लगातार नारियल और बादाम कृष्‍ण मंदिर में अर्पित करें। ऐसा करने से आपकी सारी मनोकामनाएं अवश्‍य ही पूर्ण होंगीं और नौकरी एवं करियर में आ रही आपकी सभी बाधाएं भी दूर होंगीं।

आर्थिक तंगी दूर करने का उपाय

पैसों की तंगी से जूझ रहे हैं तो जनमाष्‍टमी के दिन राधाकृष्‍ण के मंदिर जाकर भगवान के दर्शन करें और उन्‍हें पीले फूलों की माला अर्पित करें। भगवान कृष्‍ण के दर्शन मात्र से ही आपके सारे कष्‍ट दूर हो जाएंगें।

अभिमंत्रित रुद्राक्ष धारण करने से होगी आपकी सभी समस्याएं दूर

सुख-समृद्धि का उपाय

सुख-समृद्धि की कामना रखते हैं तो जन्‍माष्‍टमी के दिन पीले चंदन या केसर में गुलाब जल मिलाकर माथे पर टीका लगाएं।

Software de Kundli

मां लक्ष्‍मी को प्रसन्‍न करने का उपाय

मां लक्ष्‍मी को प्रसन्‍न करने के लिए किसी स्‍थान पर केले के दो पौधे लगाएं। इन पौधों की नियमित देखभाल करें और पौधों के फल देने पर उनका दान कर दें। इनके फल स्‍वयं न खाएं।

जन्‍माष्‍टमी की पूजन विधि

हाथ जोड़कर श्रीकृष्णै की आराधना करें। श्रीकृष्णल को पांच फूल अर्पित करें। यह पांच फूल श्रीकृष्णर का आसन है। इसके पश्चा त् उनके चरण धोएं। अब शुद्ध जल से अभिषेक करें। नए वस्त्रोंश के रूप में मोली चढ़ाएं। यज्ञोपवीत पहनाएं। अब श्रीकृष्णभ को आभूषण पहनाएं। अब धूप दीप दें। नैवेद्य दें और प्रसाद का भोग लगाएं। श्रीकृष्णा् को दक्षिणा चढ़ाएं। घंटी बजाएं और आरती करें।

जन्‍माष्‍टमी का पर्व हिंदू धर्म में बड़ा खास माना जाता है क्‍योंकि इस दिन सबके प्रिय श्रीकृष्‍ण ने धरती पर जनम‍ लिया था और मनुष्‍य जाति का उद्धार किया था। पूरे संसार में कृष्‍ण लीलाओं का वर्णन किया जाता है। भारत में ही नहीं बल्कि विदेशों में श्रीकृष्‍ण के करोड़ों भक्‍त हैं। जन्‍माष्‍टमी के दिन कृष्‍ण मंदिरों को खासतौर पर सजाया जाता है।

Comprar Rudraksha

आपकी जन्म कुण्डली हिंदी में निकालें

अपने भविष्‍य के बारे में कोई भी जानकारी या भविष्‍य की संभावनाओं के बारे में जानने के लिए आप हमारे ज्‍योतिषाचार्य से इस नंबर पर संपर्क कर सकते हैं: 8285282851

किसी भी जानकारी के लिए Llamada करें: 8882540540

ज्‍योतिष से संबधित अधिक जानकारी और दैनिक राशिफल पढने के लिए आप हमारे फेसबुक पेज को Me gusta और Seguir करें: Astrólogo en Facebook