Saltar al contenido

क्या आपकी कुंडली में भी है मांगलिक दोष? जाने इसके निवारण के उपाय

क्या आपकी कुंडली में भी है मांगलिक दोष?  जाने इसके निवारण के उपाय

मांगलिक होने के दुष्प्रभाव

ऐसा माना जाता है की यदि एक मांगलिक एक अमांगलिक से विवाह करें तो इसके भयानक परिणाम हो सकते है, ऐसे में दोनों में से एक की मृत्यु भी हो सकती है। यह एक बहुत बड़ा कारण है की मांगलिक लोगों का विवाह देर से होता है और उन्हें अपना उचित वर ढूँढने में ही काफी समय लग जाता है। इस दोष को गहराई से समझना आवश्यक है ताकि इसका जो भय लोगों के मन में है वो दूर हो सके।

कैसे बनता है मांगलिक दोष?

मांगलिक दोष को लेकर हमारे समाज में एक भय बना हुआ है, लोग मानते है की मांगलिक दोष वैवाहिक जीवन में बाधा उत्पन्न करता है, इसलिए यह जानना जरुरी है की कुंडली में यह दोष कैसे बनता है।

भारतीय ज्योतिष के अनुसार जब जन्म कुंडली में मंगल पहले, चौथे सातवे, आठवे अथवा बारहवें घर में हो तो कुंडली में मांगलिक दोष बनता है। भारतीय ज्योतिष के अनुसार मांगलिक दोष वाले युवक अथवा युवती का विवाह किसी मांगलिक दोष वाले जातक से ही होना आवश्यक है अन्यथा विवाह में दिक्कते आती है।

मांगलिक दोष से मुक्ति पाने के लिए मंगल दोष निवारण पूजा लाभदायक है।

अभी मंगल दोष निवारण पूजा बुक करें

मंगल दोष निवारण पूजा के लाभ

  • मंगल दोष पूजन द्वारा मंगल दोष को शांत किया जाता है।
  • मंगल दोष के कारण विवाह में आ रही बाधाएं दूर हो जाती है और विवाह जल्दी हो जाता है।
  • वैवाहिक सुख की प्राप्ति होती है, जीवन में कष्ट नहीं आते।

जन्म कुंडली में ऐसी अनेक स्थितियाँ है, जो मंगल दोष के प्रभाव को कम करने अथवा उसका निवारण करने में सक्षम है, इनमे से कुछ योगों के बारे में हम आपको अवगत कराते है।

  • अगर मंगल पर गुरु ग्रह की पूर्ण दृष्टि हो तो मंगल दोष प्रभावहीन होता है।
  • अगर जन्म कुंडली के पहले, चौथे सातवे, आठवे अथवा बारहवें घर में मंगल के साथ चन्द्र, शनि या फिर राहू विराजमान हो तो मंगल दोष पूरी तरह से समाप्त हो जाता है और वैवाहिक जीवन सुखद व्यतीत होता है।
  • यदि मंगल स्वराशि का हो या फिर अपने मित्र ग्रह की उच्च राशि में उच्च होकर बैठा हो तो मांगलिक दोष समाप्त हो जाता है।
  • यदि मंगल अष्टम भाव में नीच राशि कर्क में स्थित हो अथवा धनु राशि स्थित मंगल बारहवें भाव में हो तो मंगल दोष समाप्त हो जाता है।
  • अगर जन्म कुंडली में मंगल की चन्द्र अथवा गुरु से युति हो तो मंगल दोष समाप्त हो जाता है।

अभी मंगल दोष निवारण पूजा बुक करें

ज्‍योतिष से संबधित अधिक जानकारी और दैनिक राशिफल पढने के लिए आप हमारे फेसबुक पेज को Me gusta और Seguir करें: Astrólogo en Facebook