Saltar al contenido

कुंडली में विष योग बनता है तो आपके ऊपर आ सकती है ये भयंकर …

कुंडली में विष योग बनता है तो आपके ऊपर आ सकती है ये भयंकर ...

कुंडली में शुभ और अशुभ योग का बहुत महत्‍व है। यदि कुंडली में कोई शुभ योग बन रहा हो तो जातक को जीवन में सुख और समृद्धि मिलती है लेकिल अगर कोई अशुभ योग बन रहा हो तो जातक के जीवन में अनके परेशानियां और कठिनाईयां आती हैं।

ज्‍योतिष शास्‍त्र में कुंडली में शुभ और अशुभ योग का बड़ा महत्‍व है। मनुष्‍य का व्‍यवहार, कार्य और उसका जीवन कुंडली के शुभ और अशुभ योगों से प्रभावित होता है।

कुंडली में शुभ योग होने पर जातक को अपने कार्यों में सफलता मिलती है तो वहीं अशुभ योग के कारण उसे अनेक प्रकार के दुखों का सामना करना पड़ता है। कुंडली में बनने वाले अशुभ योगों में से एक है ‘विष योग’। इसको पुनर्फू योग भी कहते हैं।

Obtenga Janam Kundali gratis en línea

Puja en línea

कब बनता है -:

शनि और चंद्रमा की जब युति होती है तब यह योग बनता है। कुंडली में विष योग शनि और चंद्रमा के कारण बनता है। चंद्रमा के लग्‍न स्‍थान में एवं चन्द्रमा पर शनि की 3,7 अथवा 10 वें घर से दृष्टि होने की स्थिति में इस योग का निर्माण होता है।

शनि पुष्य नक्षत्र

कर्क राशि में शनि पुष्य नक्षत्र में हो और चन्द्रमा मकर राशि में श्रवण नक्षत्र का रहे अथवा चन्द्र और शनि विपरीत स्थिति में हों और दोनों अपने-अपने स्थान से एक दूसरे को देख रहे हों तो तब भी विष योग की स्थिति बन जाती है।

यदि कुण्डली में आठवें स्थान पर राहु मौजूद हो और शनि (मेष, कर्क, सिंह, वृश्चिक) लग्न में हो तो इस योग का निर्माण होता है।

हिंदू पंचांग 2019 पढ़ें और जानें वर्ष भर के शुभ दिन, शुभ मुहूर्त, विवाह मुहूर्त, ग्रह प्रवेश मुहूर्त और भी बहुत कुछ।

Horóscopo semanal

क्‍या आती हैं समस्‍याएं

जन्मकुंडली में इस योग के कारण व्यक्ति का मन दुखी रहता है, परिजनों के निकट होने पर भी उसे अकेलापन महसूस होता है, जीवन में सच्चे प्रेम की कमी रहती है, माता प्‍यार चाहकर भी नहीं मिल पाता या अपनी ही कमी के कारण वह ले नहीं पाता है। जातक गहरी निराशा में डूबा रहता है, मन कुंठित रहता है। माता के सुख में कमी के कारण व्यक्ति उदास रहता है।

कुंडली में अगर विष योग बन रहा है तो उसे व्‍यक्‍ति को मृत्‍यु, डर, दुख, अपयश, रोग, गरीबी, आलस और कर्ज झेलना पड़ता है। इस योग से ग्रस्‍त व्‍यक्‍ति के मन में नकारात्‍मक विचार रहते हैं और उसके काम बनते-बनते बिगड़ने लगते हैं।

पूर्ण विष योग

पूर्ण विष योग माता को भी पीड़ित करता हैशनि तथा चन्द्रमा का किसी भी प्रकार से सम्बन्ध माता की आयु को भी कम करता है अर्थात् माता का पीड़ित होना या माता से पीड़ित होना निश्चित है। यह योग मृत्यु, डर, दुख, अपमान, दरिद्रता, विपत्ति, आलस और कर्ज जैसे अशुभ योग उत्पन्न करता है।

Horóscopo mensual

क्‍या हैं उपाय

विष योग के नकारात्‍मक प्रभावों का कम करने के लिए भगवान शिव की आराधना करें। नियमित ‘ऊँ नमः शिवाय’ मन्त्र का सुबह-शाम कम से कम 108 बार करने से लाभ होगा‘महा म्रंत्युन्जय मन्त्र’ का जाप भी लाभकारी है। संकटमोचक हनुमान जी की उपासना करें और शनिवार के दिन शनि देव का संध्या समय तेलाभिषेक करने से भी पीड़ा कम हो जाती है।

शनि देव की कृपा पाने के लिए पहने Relicario de Shani Yantra

अगर आपके जीवन में कोई कष्‍ट है या आपके बनते-बनते काम बिगड़ जाते हैं तो आपकी कुंडली में कोई दोष हो सकता है। कुंडली में किसी अशुभ योग के कारण भी जीवन में परेशानियां उत्‍पन्‍न होती हैं। इसलिए इनका उपाय करना बहुत जरूरी होता है।

अगर आप भी अपनी कुंडली के बारे में परामर्श लेना चाहते हैं तो इस नंबर पर हमसे संपर्क करें -: 8882540540

नीचे दिए गए कमेंट बॉक्‍स में आप अपनी समस्‍या हमसे शेयर भी कर सकते हैं।

किसी भी जानकारी के लिए Llame al करें: 8882540540

ज्‍योतिष से संबधित अधिक जानकारी और दैनिक राशिफल पढने के लिए आप हमारे फेसबुक पेज को Me gusta और Seguir करें: Astrólogo en Facebook