Saltar al contenido

इस दोष के कारण अपने जीवन को नर्क बनने से पहले जरूर कर लें …

इस दोष के कारण अपने जीवन को नर्क बनने से पहले जरूर कर लें ...

जन्‍मकुंडली में ग्रहों की प्रतिकूल परिस्थिति के कारण कई तरह के दोष बनते हैं जिनमें से एक कालसर्प दोष भी है। अकसर कुंडली में बन रहे इन दोषों के कारण जातक का अहित ही होता है और कालसर्प दोष भी यही काम करता है। कालसर्प दोष आपके जीवन को कई तरह से कष्‍टों से भर सकता है। आज हम आपको इसी दोष के कारण और निवारण के बारे में बताने जा रहे हैं।

कैसे बनता है कालसर्प दोष

जन्‍मकुंडली में राहु और केतु के विशेष स्थिति में होने पर कालसर्प योग बनता है। ये दोष पूर्व जन्‍म में किए गए किसी जघन्‍य अपराध के दंड या श्राप के फलस्‍वरूप बनता है। कुंडली के लग्‍न भाव में राहु हो और सातवें भाव में केतु बैठा हो और बाकी के ग्रह राहु-केतु के एक ओर स्थित हों तो उस जातक की कुंडली में कालसर्प दोष बनता है।

Janam Kundli

बारह प्रकार का होता है कालसर्प योग

अनंत, कुलिक, वासुकि, शंखपाल, पदम, महापदम, तक्षक, कारकोटक, शंखनाद, घटक, विषधर और शेषनाग।

कालसर्प दोष का प्रभाव

  • कालसर्प दोष के प्रभाव में जातक को सपने में सांप और पानी दिखाई देने लगते हैं और हवा में खुद को उड़ते देखना, कार्यों में बार-बार अड़चनें आती हैं और साथ ही इनके विचारों में भी बार-बार बदलाव आता रहता है।
  • इनका मन किसी भी काम में नहीं लगता है।
  • इनकी सेहत खराब रहती है और आयु भी कम रहती है।
  • इन्‍हें पैसा कमाने के लिए खूब मेहनत करनी पड़ती है और करियर और बिजनेस में भी इन्‍हें आसानी से सफलता नहीं मिल पाती है।

रत्‍न होते हैं बेअसर

आमतौर पर रत्‍नों को उससे संबंधित ग्रह को शांत करने के लिए धारण किया जाता है और राहू और केतु का रत्‍न केवल इन ग्रहों को शांत कर सकते हैं। हम ये नहीं कह रहे हैं कि कालसर्प दोष में रत्‍न पूरी तरह से निष्‍प्रभावी है।

आपको इसे धारण करने से लाभ तो होगा लेकिन उतना नहीं जितना की कालसर्प दोष को शांत करने के लिए जरूरत होती है। आप रत्‍न धारण कर सकते हैं लेकिन इसके अलावा भी आपको कई अन्‍य उपाय करने ही होंगें तभी इस दोष के दुष्‍प्रभाव में कमी आएगी।

Horóscopo 2019

कालसर्प दोष का एकमात्र उपाय

जी हां, इस दोष को शांत करने का सबसे सरल और सर्वोत्तम उपाय है पूजा। पूजा के दौरान राहू-केतु के मंत्रों से इस दोष को शांत किया जाता है। अगर आप इस दोष की पूजा करवाएं तो आपको शीघ्र अति शीघ्र इस दोष के प्रभाव से छुटकारा मिल सकता है।

आप पं. सूरज शास्‍त्री से भी इस दोष निवारण पूजा करवा सकते हैं। इस पूजा हेतु आपका नाम, आपके पिता का नाम और आपके पूर्वजों का नाम लेना जरूरी होता है, तभी इस दोष से आपको मुक्‍ति मिल सकती है।

अगर आप अपने जीवन को सुखी बनाना चाहते हैं तो तुरंत इस नंबर पर कॉल करके पूजा के लिए शुभ मुहुर्त बुक करें: 8285282851