Saltar al contenido

आपके विवाह में देरी हो रही है तो नवरात्र के छठे दिन करें ये …

आपके विवाह में देरी हो रही है तो नवरात्र के छठे दिन करें ये ...

मां दुर्गा का छठा स्‍वरूप है देवी कात्‍यायनी जिनकी सवारी शेर है और इनके हाथ में तलवार और कमल का पुष्‍प होता है। देवी कात्‍यायनी ने ऋषि कात्‍यायना के घर पुत्री के रूप में जन्‍म लिया था।

जब महिषासुर के अत्‍याचारों औरं पाप कर्मों से पूरे पृथ्‍वी लोक पर हा‍हाकार मच गया था तब देवी कात्‍यायनी ने उसका वध किया था। देवी कात्‍यायनी अपने भक्‍तों के सभी पापों का नाश करती हैं।

नवरात्र के छठे दिन इन्‍हें करनी चाहिए पूजा

देवी कात्‍यायनी की पूजा विवाह योग्‍य कन्‍याओं को अवश्‍य करनी चाहिए। देवी कात्‍यायनी के पूजन एवं व्रत से कन्‍याओं का विवाह शीघ्र होता है और उन्‍हें उत्तम वर की प्राप्‍ति होती है।

नवरात्र के छठे दिन की पूजन विधि

नवरात्र के छठे दिन प्रात: काल स्‍नान से पवित्र होकर देवी भगवती का पूजन किया जाता है। इस दिन माता रानी के पूजन में सिर्फ श्रृंगार सामग्री और पूजन सामग्री का ही प्रयोग करना फलदायी रहता है। नवरात्रे के छठे दिन देवी कात्‍यायनी के पूजन में हाथों में पुष्‍प लेकर देवी का ध्‍यान करें और इस मंत्र का 108 बार जाप करें –

चंदहासोज्‍ज्‍वलकरा शार्दूलवरवाहना।

कात्‍यायनी शुभं दद्याद्देवी दानवघातिनी ।।

इसके पश्‍चात् दुर्गा सप्‍तशती के ग्‍यारहवें अध्‍याय का पाठ करें। अब माता रानी को पुष्‍प और जायफल अर्पित करें। छठे दिन देवी कात्‍यायनी के साथ भगवान शिव का पूजन भी करें। भगवान शिव को प्रिय चीज़ों का प्रयोग भी पूजन में करें और देवी को भी शिव की प्रिय चीज़ें अर्पित करें। देवी कात्‍यायनी के पूजन में शहद का भोग लगाना चाहिए। प्रसाद का भोग लगाने के पश्‍चात् देवी कात्‍यायनी की आरती करें। मां कात्‍यायनी को प्रसन्‍न करने के लिए गुड़ का दान करना शुभ रहता है। नवरात्र के छठे दिन नारंगी रंग के कपड़े पहनें।

Use Rudraksha Energizada para vivir saludable y rico

यदि किसी कन्‍या के विवाह में देरी आ रही है या विवाह में कोई न कोई अड़चन आ जाती है तो आप देवी कात्‍यायनी को प्रसन्‍न करने के लिए इस मंत्र का जाप करें। इस मंत्र के जाप से वैवाहिक सुख की भी प्राप्‍ति होती है।

एतत्ते कात्‍यायनी वदन सौम्‍यम् लोचनत्रय भूषिमत्।

पातु न: सर्वभीतिभ्‍य: कात्‍यायिनी नमोस्‍तुते ।।

देवी कात्‍यायनी का पूजन मंत्र ध्यान मंत्र

ऊं देवी कात्‍यायनी नम:

इस मंत्र का जाप 108 बार करें।

अभी प्राप्‍त करें अभिमंत्रित नवदुर्गा यंत्र

इसके अलावा अगर आपके जीवन में पैसों से संबंधित कोई और परेशानी भी चल रही है या आप किसी अन्‍य मुसीबत की वजह से परेशान हैं तो बेझिझक हमसे कहें। AstroVidhi के अनुभवी ज्‍योतिषाचार्य आपकी हर मुश्किल का समाधान बताएंगें।

किसी भी जानकारी के लिए Llamada करें: 8882540540

ज्‍योतिष से संबधित अधिक जानकारी और दैनिक राशिफल पढने के लिए आप हमारे फेसबुक पेज को Me gusta और Seguir करें: Página de Facebook de AstroVidhi